Contact Us: 0532-2465524, 25, M.-9335140296    
E-mail : ssgcpl@gmail.com

रत्नागिरि रिफाइनरी समझौता

May 26th, 2018
Ratnagiri Refinery Agreement
  • वर्तमान परिदृश्य
  • 11 अप्रैल, 2018 को सार्वजनिक क्षेत्र की तीन तेल विपणन कंपनियों इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन लिमिटेड (IOCL), भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड (BPCL) एवं हिंदुस्तान पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड (HPCL) संघ वाले एक भारतीय कंसोर्टियम और सऊदी अरामको (Saudi Aramco) के मध्य रत्नागिरि (महाराष्ट्र) में रिफाइनरी के लिए एक समझौता-ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए।
  • उद्देश्य
  • महाराष्ट्र के रत्नागिरि में एक एकीकृत रिफाइनरी एवं पेट्रोरसायन कॉम्प्लेक्स को संयुक्त रूप से विकसित और विनिर्मित करने हेतु।
  • महत्वपूर्ण तथ्य
  • इस रिफाइनरी से प्रतिदिन 1.2 मिलियन बैरल कच्चे तेल (60 मिलियन मीट्रिक टन प्रतिवर्ष) का प्रसंस्करण होगा।
  • यह रिफाइनरी बीएस-VI ईंधन दक्षता मानक वाले पेट्रोल एवं डीजल सहित अनेक परिशोधित (रिफाइंड) पेट्रोलियम उत्पादों का उत्पादन करेगी।
  • रत्नागिरि रिफाइनरी एंड पेट्रोकेमिकल्स लिमिटेड (RRPCL) विश्व की सबसे बड़ी रिफाइनिंग एवं पेट्रोरसायन परियोजना होगी।
  • इससे भारत की तेजी से बढ़ती हुई ईंधन एवं पेट्रोल रसायन मांग को पूरा किया जा सकता है।
  • इस परियोजना पर लगभग 3 लाख करोड़ रुपये (44 अरब डॉलर) की लागत आएगी।
  • भारतीय कंसोर्टियम और सऊदी अरामको के मध्य भागीदारी के बीच 50 : 50 अनुपात वाली संयुक्त साझेदारी है।
  • सऊदी अरामको मेगा रिफाइनरी में सह-निवेश के तौर पर एक रणनीतिक साझेदार के रूप में सम्मिलित हो सकता है।
  • इस परियोजना से प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष रूप से व्यापक रोजगार का सृजन होगा।
  • इससे रत्नागिरि समेत पूरे महाराष्ट्र एवं संपूर्ण भारत का आर्थिक विकास होगा।
  • उल्लेखनीय है कि यह रिलायंस और ब्रिटिश पेट्रोलियम के बीच साझेदारी के बाद भारत के पेट्रोलियम क्षेत्र में दूसरा सबसे बड़ा निवेश होगा।