Contact Us: 0532-2465524, 25, M.-9335140296    
E-mail : ssgcpl@gmail.com

नई पीढ़ी का प्रशिक्षण विमान

May 21st, 2018
New Generation Training Aircraft
  • वर्तमान परिप्रेक्ष्य
  • वैज्ञानिक एवं औद्योगिक अनुसंधान परिषद (CSIR) द्वारा ‘राष्ट्रीय एयरोस्पेस प्रयोगशाला’ (Nal) को ‘भारत में निर्मित’ (Made in India) नई पीढ़ी के प्रशिक्षक (Trainer) विमान हंसा-एनजी (Hansa-Ng) के डिजाइन, विकास एवं प्रमाणन के लिए सैद्धांतिक स्वीकृति प्रदान की गई।
  • महत्वपूर्ण तथ्य
  • हंसा-एनजी राष्ट्रीय एयरोस्पेस प्रयोगशाला द्वारा डिजाइन एवं विकसित दो सीटों वाला हंसा-3 विमान का नई पीढ़ी का विमान है।
  • हंसा-एनजी वैज्ञानिक एवं औद्योगिक अनुसंधान परिषद, राष्ट्रीय एयरोस्पेस प्रयोगशाला और मेस्को (Mesco) एयरोस्पेस की भागीदारी वाली परियोजना है।
  • हंसा-एनजी विमान की संशोधित विशेषताएं एवं अत्याधुनिक प्रदर्शन प्रणालियों से लैस होगा।
  • उल्लेखनीय है कि हंसा-3 सीएसआईआर एवं एनएएल द्वारा डिजाइन एवं विकसित भारत का पहला ऑल-कंपोजिट (All-Composite) हल्का विमान है।
  • पूरे देश में फ्लाइंग क्लबों द्वारा पायलट प्रशिक्षण के लिए 12 हंसा-3 विमानों का उपयोग किया जा रहा है।
  • यह विमान उड़ान प्रशिक्षण, खेल एवं शौकिया (Hobby) उड़ान के लिए उपयुक्त है।
  • यह विमान आकाशीय बिजली से सुरक्षित है और इसे वीएफआर (Vfr) एवं रात्रि उड़ान संचालनों के लिए अनुमति प्राप्त है।
  • हंसा-3 विमान की लंबाई 7.6 मीटर, ऊंचाई 2.61 मीटर, पंख विस्तार 10.47 मीटर और वजन कुल भार 750 किग्रा. है।
  • इस विमान की टेक ऑफ दूरी 413 मीटर और लैंडिंग दूरी 540 मीटर है।
  • हंसा-3 विमान की अधिकतम क्रूज गति 178 किमी./घंटा है।

लेखक-नीरज ओझा