Contact Us: 0532-2465524, 25, M.-9335140296    
E-mail : ssgcpl@gmail.com

उत्तरी सफेद गैंडा ‘सूडान’ की मृत्यु

May 21st, 2018
North White Rhinoceros 'Sudan' dies
  • वर्तमान परिदृश्य
  • 19 मार्च, 2018 को उत्तरी सफेद नर गैंडा ‘सूडान’ की मृत्यु केन्या में हुई।
  • महत्वपूर्ण तथ्य
  • उत्तरी सफेद (White Rhinoceros) नर गैंडा ‘सूडान’ की मृत्यु संक्रमण रोगों के कारण केन्या के Ol Pejeta Conservancy में हुआ।
  • इसकी आयु 45 वर्ष की थी।
  • इसको अंतरराष्ट्रीय प्रकृति सरंक्षण संघ (आईयूसीएन) की रेड डाटा सूची के ‘अति संकटग्रस्त’ (Critically Endangered) श्रेणी में रखा गया है।
  • अति संकटग्रस्त- जब किसी वर्गक पर निकट भविष्य में वन में विलुप्त होने का उच्चतम संकट या खतरा हो, तो वह वर्गक अति संकटग्रस्त कहलाता है।
  • आईयूसीएन द्वारा प्रकाशित रेड डाटा सूची के तहत संकटग्रस्त प्रजातियों की सूची जारी की जाती है।
  • ‘सूडान’ नामक उत्तरी सफेद नर गैंडा की मृत्यु दया मृत्यु से हुई।
  • उल्लेखनीय है कि इस उपजाति की मात्र दो मादा गैंडा (नजिन एवं फतु) ही शेष हैं।
  • इस गैंडा को वर्ष 2009 में चेक गणराज्य के एक चिड़ियाघर से इस उद्देश्य से केन्या में लाया गया था कि अफ्रीका महादेश का अनुकूल वातावरण गैंडों के पुनर्जनन में सहायक होगा।
  • वर्ष 2008 तक शोधकर्ताओं को जंगल में सफेद गैंडा का अस्तित्व के प्रमाण नहीं मिले हैं।
  • उत्तरी सफेद गैंडा ‘अति संकटग्रस्त’ में पहुंच चुका है, जबकि सफेद गैंडा संकटापन्न (Near Theatened) श्रेणी में है।
  • सफेद गैंडा के तथ्य
  • सफेद गैंडा का ‘सामान्य नाम’, Ceratotherium है।
  • इसका नामकरण जीव विज्ञानी जॉन एडवर्ड ग्रे (John Edward gray) ने 1868 ई. में किया था।
  • इसका वैज्ञानिक नाम सेराटोथोरियम कॉटोनी (Ceratotherium Cottoni) है।
  • इसके गर्भधारण की अवधि 16-18 माह  होती है।
  • इनका वजन क्रमशः नर का 2300 किग्रा. तथा महिला का 1700 किग्रा. होता है।
  • ज्ञातव्य है कि ‘सफेद गैंडा’ नाम एक लोकप्रिय सिद्धांत डच से अंग्रेजी के गलत अनुवाद से प्राप्त हुआ है।
  • सफेद गैंडा की दो प्रजातियां है- 1. उत्तरी सफेद गैंडा और 2. दक्षिणी सफेद गैंडा
  • उत्तरी सफेद गैंडा के तथ्य
  • उत्तरी सफेद गैंडा की विशिष्ट जातियां अफ्रीका के विभिन्न क्षेत्रों में पाई जाती हैं।
  • ज्ञातव्य है कि सफेद गैंडा (98.9%) सिर्फ चार देशों (दक्षिण अफ्रीका, नामीबिया, जिम्बॉब्वे और केन्या) में पाए जाते हैं।
  • गैंडों के समूह को अंग्रेजी में क्रैश (Crash) कहा जाता है।
  • रेड डाटा बुक 1जनवरी, 1972 को प्रकाशित हुई थी।

लेखक-रमेश चंद्र